Thursday, May 30, 2024
Google search engine
HomeBusinessमधुमक्खी परिवार का रखरखाव और देखभाल (how to take care of bee...

मधुमक्खी परिवार का रखरखाव और देखभाल (how to take care of bee family)

मधुमक्खी बॉक्स का अवलोकन

 मधुमक्खी वंश की प्रजाति जानने के लिए इनके 15 से 20 दिन के अंतर पर अवलोकन करना चाहिए परंतु जनवरी से अप्रैल में छह से सात दिन के अंतराल पर अवलोकन करना आवश्यक है

अप्रैल और जून में प्राता 6:00 बजे से 9:00 बजे के बीच तथा शाम 5:00 बजे से 8:00 बजे के बीच अवलोकन करना चाहिए

सर्दी के मौसम में प्रातः 11:00 बजे से 3:00 बजे के बीच धूप निकली हो तथा मौसम साफ हो तो अवलोकन करना उचित होता है बरसात या तेज हवाएं चल रही हो तो अवलोकन करने से बचना चाहिए

ठंड में मधुमक्खी को देखभाल कैसे करें (how to take care of bees in winter)

क्योंकि ठंड के समय बहुत ज्यादा ठंड पड़ता है और हमारा टेंपरेचर काफी नीचे आ जाता है जिससे अपने मौन वंश को बचाने के लिए यह जरूरी हो जाता है कि उसको किसी ऐसे चीज ( बोरी या टाट) से दो तह बनाकर  ढकन के अन्दर ढक दें जिससे बाहर की टेंपरेचर उसको अंदर नुकसान न पहुंचा सकें जिसके लिए हम बोरी को दो तह लगाकर ढक्कन के  नीचे बिछा देना चाहिए। साथ ही साथ हो सके तो पॉलिथीन से प्रवेश द्वार को छोड़कर चारों तरफ ढाक देना चाहिए।

इस समय मौन वंश को ऐसे स्थान पर रखना चाहिए जहां पर जमीन सुखा हो और धूप आता रहता हो

बसंत ऋतु में मधुमक्खियों का कैसे देखभाल करें : 

बसंत ऋतु 21 मार्च से 21 जुन तक होता है। यह मौसम मधुमक्खियों और मौन पालको के लिए सबसे उत्तम मानी जाती है। इस मौसम में सभी स्थानों में प्रयाप्त मात्रा में पराग और मकरंद उपलब्ध होते  है जिसके मौन वंश की संख्या  बढ़ जाती है। जिसके कारण शहद का उत्पादन भी बढ़ जाता है।

गर्मी के मौसम में मधुमक्खियों का देखभाल कैसे करें (how to take care of bees in summer)

गर्मी के मौसम मेंथोड़ा समस्या आती है उस प्रकार से मधुमक्खी पालक का उसका निदान करना चाहिए।

गर्मी के मौसम में सबसे ज्यादा समस्या जो आती है उसका तापमान है क्योंकि तापमान 40 डिग्री सेंटीग्रेड हो जाता है। इस समय मधुमक्खी पालक को चाहिए कि पहले वह मधुमक्खी के आस-पास स्वच्छ पानी होना चाहिए, ऐसे स्थान पर रखें जहाँ छाया हो।

जहां भी मधुमक्खी को स्थानांतरण करते हैं 

वहां भी स्वच्छ पानी का होना बहुत जरूरी है, साथ ही साथ इस मौसम में फ्लोरा की थोड़ा कमी आ जाती है। फ्लोरा  के कमी के लिए जरूरी है कि आप आर्टिफिशियल भोजन भी दे सकते हैं, इसके लिए एक भाग चीनी एक भाग पानी दोनों मिक्स करके मधुमक्खी को फीडर की सहायता से मधुमक्खी पालक को देना चाहिए।

साथ ही साथ जो इसका स्थान है छाया में रखना चाहिए जिससे दोपहर का धूप ना लगे क्योंकि गर्मी बहुत ज्यादा है। नहीं तो मधुमक्खी को नुकसान हो सकता है। 

और इसके जो बॉक्स हैं उसको सफेद पेंट से पेंट देना चाहिए ताकि बक्सों का तापमान जो है नियंत्रित रहे।

कुछ समस्या रहती है जैसे एक समस्या रहती है माइट कीट की, इसके लिए जरूरी है फार्मिक एसिड 5ml बॉक्स के तलपट पर लगाएं। 

साथ ही साथ सल्फर का भी प्रयोग किसान भाई कर सकते हैं, या अजवाइन का सत का पाउडर 1 ग्राम एक बॉक्स में कपड़े में बांध के मधुमक्खी पालक रख सकते हैं पोटली बनाकर।

बरसात के समय में मधुमक्खी का देखभाल कैसे करें (How to take care of bees in rainy season)

बारिश का मौसम मधुमक्खियों के लिए विपरीत समय होता है, हमारे चारों तरफ जहां पर हम मधुमक्खी का पालन करते हैं वहां पर फूलों की उपलब्धता कम हो जाती है इसलिए मधुमक्खी को उनका अपना पराग मकरंद जो उनके भोजन का इस्तेमाल उनके द्वारा किया जाता है उनकी उपलब्धता न होने के कारण वह थोड़ा सा निष्क्रिय हो जाती हैं या उपलब्धता समय पर ना होने कारण उनकी मौत भी हो जाती है। इस मौसम में तेज वर्षा, हवा और नुकसान पहुचाने वाले दुश्मन जैसे चींटियाँ, मोमी पतंगा, पक्षियों का  बड़ा प्रकोप होता है

ऐसे कंडीशन पर आवश्यकता पड़ती है उनको आर्टिफिशियल फीड या कृतिम भोजन देने की।

कृतिम भोजन देने के लिए हमें हमें चीनी की आवश्यकता पड़ती है, एक किलोग्राम पानी में 400 ग्राम चीनी उनको गोल करके उबालकर के उसको ठंडा करके छोटे-छोटे पात्रों में हमको देते हैं।

अगर आपके बक्सों में 10 सकते हैं तो उसके ऊपर सुपर लगाकर उन्हें दे। ध्यान रखने वाली चीजें है कि कहीं भी फीड बाहर न रखें, क्योंकि बाहर रखेंगे तो उनकी आपस में मारपीट होती है तो उसमें समस्या पैदा होगी, फिट हमेशा उनके छत्ता के कॉलोनी में है।

कॉलोनी में देने के लिए क्या है कि सुपर लगा दे।सुपर लगाने के बाद आपके पास जो कटोरी है उस कटोरी से मौन वंश की संख्या के अनुसार उसमें मात्रा भरदे। ध्यान में रखें की जब भी इनको हम कृत्रिम भोजन दें, यह भोजन शाम को 6:00 बजे के बाद देना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि जब हम 6:00 बजे शाम को भोजन देते हैं, इससे जो हमारी बाहरी मधुमक्खियां है, मधुमक्खी में हमारे रोबिन हो गई, या मधु की चोरी हो रही है, ऐसी कंडीशन में क्या होता है कि जिन बक्सों में या बाहर की मधुमक्खियां जिनके पास मकरंद या खाने वाली चीज नहीं है वह ऐसे बक्सों में जाती हैं जहां पर ये सब उपलब्ध होता है वह ग्रुप उसमें जाता है और उसमें अटैक करता है रखे हुए सहद का चोरी करते हैं इस चोरी को रोकने के लिए जो आपस में उस बॉक्स से संबंधित जो मौन वंश के जो श्रमिक हैं उनको पहचान लेते हैं और मारना पीटना शुरू कर देते हैं इसमें उस मौन वंश का भी नुकसान होता है जिससे हमारी मधुमक्खियां मरने से बच जाती हैं। ध्यान रखें कि शाम 6:00 बजे के बाद रखें ताकि वो रात में भोजन पूरी तरह से उठा ले, और जैसे ही सुबह हो आप उस भोजन को मौन वंश से बाहर निकाल ले। क्योंकि दिन में बचा रहेगा तो फिर वही चोरी वाली घटनाएं होंगी जिससे हमारे नुकसान होगी। 

दूसरी बात ए है कि जब हम इनको खाने वाला फीड दें तो हमको इतनी मात्रा में देना चाहिए जितना कि रात भर में उठा ले, ज्यादा फीड देंगे तो फीड बचेगा फिर वही चोरी वाली घटनाएं पड़ेगी

बरसात के समय में कीड़े मकोड़े अधिक हो जाते हैं, बक्से का जो स्टैंड है उसमें एक कटोरा लेकर पानी में रखकर स्टैंड को रखें जिससे कई तरह के कीड़े मकोड़े वह चींटी से बचा हो सकता है। इससे हमारे छत्तों में चिटी प्रवेश नहीं करेंगी।

ततैया 

ततैया हमारे मौन वंशों को या छत्तों के प्रवेश द्वार के आसपास घूमती रहती है, हमारी मधुमक्खियां अंदर से बाहर आती हैं तो उनको पकड़ती हैं और पकड़ के उठा ले जाती हैं। इन मधुमक्खियों का नुकसान होता रहता है इनसे बचने का हमें ध्यान रखने की बातें हैं कि समय-समय पर भ्रमण अपने मौन वंशों का भ्रमण करते रहे खासकर सुबह के समय ही उनका आतंक ज्यादा रहता है और देखने पर उनको मारना चाहिए। डंडे से मार दें।

आजकल एक हरी सी चिड़िया है जिसकी एक चोंच पतली सी होती है उसका नाम है बीट। आस पास बैठी रहती है और जैसे ही मत पक्की को देखती है उसको पकड़ लेती है या उड़ते हुए को पकड़े लेती है जिससे हमारे मधुमक्खियों के नुकसान होता। सीधे पकड़ कर खा जाती।

अगर आपको लगता है कि आपकी मधुमक्खिया मर रही हैं या लड़ रही हैं सबसे पहले क्या सावधानियां बनाएं मौन वंशों को या छत्ते को एक-एक करके खोलें। और उसके देखभाल जो करना है उसे करें।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments