Sunday, February 25, 2024
Google search engine
HomeBusinessमधुमक्खी पालन से निकलने वाला लाभकारी उत्पाद

मधुमक्खी पालन से निकलने वाला लाभकारी उत्पाद

मधुमक्खी पालन एक ऐसा व्यवसाय है जो पालक के साथ-साथ औरों की जीवन में मिठास घोलता है। शहद की बढ़ती मांग की वजह से लकड़ी के बॉक्स में बंद मधुमक्खियां बहुत लोगों का जीवन सवार रही है इस व्यापार की सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें लागत कम और मुनाफा अधिक है साथ ही महिला या पुरुष या बुजुर्ग भी इसे समझ कर के कुटीर उद्योग का रूप दे सकती हैं

इस व्यापार का शुरू करने का सबसे बड़ा कंडीशन यह है कि इसकी अच्छी जानकारी होनी चाहिए

जो किसी भी कृषि विज्ञान केंद्र से जानकारी लिया जा सकता है मधुमक्खी पालन भूमिहीन किसान व सीमांत किसान के लिए किसी वरदान से कम नहीं है

मधुमक्खी पालन से निकलने वाला लाभकारी उत्पाद

  • मधु (Honey)
  • पराग (Bee Pollen)
  • मोम 
  • गोद
  • मौन विष (Bee Venom)
  • रॉयल जेली (Royal Jelly)
  • प्रपोलिस (Propolis)
  • Bee Wax

शहद (Honey)-

अगर आपकी कालोनी सुपर है तो 20 से 60 किलो तक के मधु प्रोड़क्शन होता है.।

मधुमक्खी द्वारा तैयार शाहद में विटामिन और खनिज प्रचुर मात्रा में होता है जिसकी सेवा से शरीर में शक्ति और फुर्ती मिलती है मधुमक्खियों द्वारा मिलने वाला मोम एक अत्यंत उपयोगी उत्पाद है जिसकी कीमत से हद से भी ज्यादा है 

मधुमक्खी द्वारा तैयार शहद में पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन, खनिज होते हैं। इसका सेवन करने से शरीर को शक्ति और स्फूर्ति मिलती हैं।

मधुमक्खियों से शहद निकालना: 

शहद निकालने के लिए मौन वंश के छत्तो का चुनाव दिन के साफ मौसम में ही करना चाहिए, उसके बाद शाम के समय ही मधु निकालने का कार्य करना चाहिेए जिससे मक्खियाँ परेशान ना करें। नहीं तो ये आपके काम में बाधा डालेंगी। शहद से भरे छत्तों को एक बड़ी मच्छरदानी के अन्दर रखकर ही निकालना चाहिए। अब छीलन चाकू के सहायता से छत्तो के निचली परत में लगा मोम को हटाकर, शहद निकालने वाली मशीन में डालकर उसे घुमाया जाता है। फिर शहद को निकाल कुछ घण्टों तक किसी टंकी या पात्र में पड़ा रहने दे, उसके बाद किसी कप़ड़े से छान कर साफ सुधरा शहद प्राप्त कर सकते है।

वी वेनम (Bee Venom): 

वी वेनम मधुमक्खी जो डंक मारती है उसका जहर होता है।इसको डंक बिष कहते है। उसको आमतौर पर मशीन से इकट्ठा कर लिया जाता है। उदाहरण के रुप में मशीन को बॉक्स छेंद का सामने रख दिया जाता है, उस मशीन पर एक कांच लगा होता है, और उसमे 9 वाट का हल्का सा  करेंट लगता है  जिससे मधुमक्खियों को गुस्सा आता है तो वह अपना डंक मारती है। और उस डंक से जो जहर निकलता है उस कांच पर लग जाता है, फिर 40 मिनट बाद उस कांच को निकाल कर, कांच पर लगा जहर को किसी धार दार ब्लेड की सहायता से किसी डार्क शीशी में इकट्ठा कर लिया जाता है। फिर उसको डिफ्रिज करके रखते है।

वी वेनम अगर अच्छी गुणवत्ता की है तो उसकी 1 ग्राम का कीमत लगभग 7 हजार रुपए है। अर्थात 1 किलो का कीमत लगभग 70 लाख रुपए होता है।अतः

100 मशीन से लगभग 2.5 ग्राम तक का वेनम प्राप्त किया जा सकता है, और एक बार मशीन लगाने के बाद उसके फिर 15 दिन बाद ही दुबारा इसे प्राप्त करने के लिए मशीन लगाया जाता है। अतः 1 महीनें में दो बार ही मशीन लगाया जा सकता है। 1 मशीन का रेट लगभग 12 हजार रुपए है।

Bee Wax-

रॉयल जैली-(Royal Jelly)

रॉयल जैली को मधुमक्खी का दूध

मधुमक्खी पराग (Bee Pollen)

बी पॉलन मधुक्खियों के द्वारा दूर-दूर तक जाकर फूलो से लाकर इकट्ठा किया गया पराग होता है। इसमें लगभग 40 प्रतिशत तक प्रोटिन पाया जाता है।बी पॉलन में विटामिन, मिनरल्स, कार्बोहाइड्रेट , प्रोटिन फ्लेवेनॉयड तथा लैक्टिक एसिड  होता है।  यह नवम्बर, दिसम्बर और जनवरी मुख्यतः तीन महिनों में ही निकाला जाता है। 1 कालोनी से 2 किलो से लेकर 5 किलो तक बी पोलन ले सकते है।

मधुमक्खी बिष का उपयोग
  • जोड़ो का दर्द
  • गठिया
  • चर्म रोग
  • लकवा
  • वात रोग ठीक किया जाता है

पराग ही मधुमक्खीयों का प्रमुख भोजन है। इसके अभाव में इनका वंश नहीं चल सकता।

मधुमक्खियां की रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रोटिन की उपलब्धता पर काफी निर्भर रहती है।

प्रोपोलिस(Propolis)

प्रोपोलिस को मधुमक्खी का गोंद कहते हैं।कम से कम 1 किलो प्रपोलिस 1 बॉक्स से निकल सकता है। जो लगभग 1200 रुपये में बिकता है।

मोम

शहद के साथ -साथ अब किसान मोमबत्ती का भी व्यवसाय करेंगे। मोमबत्ती के लिए मोम मधुमक्खी के छत्ते से निकलता है। जानकारी के अभाव मे किसान छत्ते से शहद निकालने के बाद उसे फेक देेते थे, लेकिन इस छत्ता में प्राकृतिक रुप से मोम पाया जाता है। जिसका इस्तेमाल करके किसान मोमबत्ती जैसे और भी प्रोडक्ट बना कर अपनी आमदनी को बढ़ा सकते है।

मोम मधुमक्खी के ऊदर के निचले भाग से उत्पन्न होने वाला अत्यधिक उपयोगी उत्पाद है। मोम का बड़ा भाग छत्ते के निर्माण में प्रयोग होता है। इसका मूल्य शहद से भी ज्यादा है।यह कमेरी मधुमक्खी द्वारा तैयार किया जाता है।

मोम का उपयोग
  • मोमबत्ती बनाने
  • सौंदर्य प्रसाधनों
  • चर्म उद्योग
  • कला कृतियों के निर्माण में
  • फर्नीचर के उत्तम पॉलिश के उपयोग में होता है
मधुमक्खी से मोम निकालने का विधि-

 सबसे पहले पुराने छत्ते से अच्छी तरह शहद निकाल ले। उसके बाद उस छत्ते को गर्म पानी में उबाल लें। अब पानी के ऊपर जो मोम निकल जाएगा, और पानी के ऊपरी सतह पर तैरने लगेगा। अब जो उपर मोम तैर रहा है उसे निकालकर लिया जाता है। फिर उसे ठण्डा करने पर मोम की प्राप्ति हो जाता है। अब इस मोम का प्रयोग करके किसान या तो बेच कर अपनी आमदनी को बढ़ा सकते है, या मोम से बनने वाले और प्रोड़क्ट को खुद बनाकर बेचे सकते है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments